Friday, May 17, 2024
Google search engine
HomeTWO 2 LINE SHAYARI SHORT POETRYShort Hindi Shayari in Two Lines - 2 Line Shayari

Short Hindi Shayari in Two Lines – 2 Line Shayari

Short Hindi Shayari in Two Lines – 2 Liner Shayari

मौत का पता नहीं,
इसलिए बात कर लिया करो,
क्या पता आप याद करो,
और हम न रहे..
Maut ka pata nhi,
Isliye baat kar liya karo,
Kya pata aap yaad karo,
Aur hum na rahe…

जब भी उदास हो जाओ,
तो रो दिया करो,
चेहरे पढ़ना अब भूल गए हैं लोग..
Jab bhi udaas ho jao,
Toh ro diya karo,
Chehre padhna ab bhool gaye hain log..

दिल से हमे पुकारा न करो,
यू आँखों से इशारा न किया करो,8
तुमसे दूर हैं मजबूरी हैं हमारी,
तन्हाई में युही तड़पाया न करो मुझें…
Dil se hame pukara na karo,
Yu ankho se ishara na kiya karo,
Tumse dur hain majboori hain hamari,
Tanhai me yuhi tadpaya na karo…

वो दिन नही वो रात नहीं,
वो पहले जैसे जज्बात नहीं,
होने को तो हो जाती हैं बात उनसे,
मगर बातों में भी पहले जैसे बात नहीं…
Wo din nahi Wo raat nahi,
Wo pehle jaisi jajbat nahi,
Hone ko toh ho jati hain baat unse,
Magar baato me bhi pehle jaisi baat nahi…

कौन याद करता हैं गुजरे हुए वक़्त को,
लोग तो दो दिन में नाम तक भूल जाते हैं।
Kaun yaad karta hain gujre hue waqt ko,
Log toh do din me naam tak bhool jaate hain…

जब अपनो ने ही मुँह मोर लिया,
तो पराए लोगों के लफ़्ज़ों से क्या फर्क पड़ता हैं…
Jab apno ne hi muh mor liya,
Toh paraya logo ke lafzo ka kya farq padta hain…

बेहतर हैं उन रिश्तों का टूट जाना,
जिस रिश्ते की वजह से आप टूट रहे हैं..
Behtar hain un rishto ka tut jana,
Jis rishte ki wajah se aap tut rahe hain..

हो सके तो दोस्ती कर लेना,
पर दिल किसी से कभी न लगाना..
Ho sake toh dosti kar lena,
Par dil kisi se kabhi na lagana…

आज हम तरस रहे हैं तुम्हारे लिए,
कल तुम तरसोगे हमारे लिए…
Aaj hum tarash rahe hain tumhare liye,
Kal tum tarsoge hamare liye…

तू तो मेरी जान थी,
पर क्यों तेरी यादे,
मेरी जान ले रही हैं…
Tu toh meri jaan thi,
Par kyu teri yaade,
Meri jaan le rahi hain…

किसी ने खूब कहा हैं,
मोहब्बत नहीं जनाब,
यादे रुलाती हैं..
Kisi ne khoob kaha hain,
Mohabbat nahi janab,
Yaade rulaati hain…

बुरा नहीं हूँ मैं,
अपनी कुछ कहानी हैं,
टूट चुका हूँ मैं,
अपनो की ही मेहरबानी हैं…
Bura nahi hoon main,
Apni kuch kahani hain,
Tut chuka hoon main,
Apno ki hi meharbani hain….

दर्द सहते सहते,
लोग हँसना नहीं,
रोना भी छोड़ देते हैं..
Dard sahte sahte,
Log hasna nahi,
Rona bhi chod dete hain…

मुस्कुराकर दर्द को सहना क्या सीख लिया,
सब ने समझा तकलीफ होती ही नहीं हैं मुझकों…
Muskurakar dard sahna kya sikh liya,
Sab ne samajha takleef hoti hi nahi hain mujhko…

मैं शिकायत नहीं करूंगा कि
तू मुझसे बात कर,
बस वक़्त के साथ,
मैं भी बात करना छोड़ दूंगा…
Main shikayat nahi karunga ki,
Tu mujhse baat kar,
Bas waqt ke sath,
Main bhi baat karna chodh dunga…

तुम चाहती हो की,
तुमसे बिछड़कर भी खुश रहू,
इसका मतलब रूह भी निकले,
पर जान भी न जाए..
Tum chahti ho ki,
Tumse bichadkar bhi khush rahu,
Iska matlab rooh bhi nikle
Par jaan bhi na jaye..

दर्द की शाम हो या दुख भरा सवेरा हो,
सबकुछ कबूल हैं मुझें अगर जीवनभर साथ तेरा हो..
Dard ki shaam ho ya Dukh bhara savera ho,
Sabkuch kabool hain mujhe agar jeevan bhar sath tera ho..

जिंदगी ने मुझे तोड़ा होता,
तो मैं फिर उठ खड़ा होता,
लेकिन इस जिंदगी ने मेरे हौसले ही तोड़ दिए,
अब उठना मेरे लिए न मुमकिन सा हैं।
Zindagi ne mujhe toda hota,
To main fir uth khada hota,
Lekin iss zindagi ne mere hausle hi tod diye,
Ab uthna mere liye na mumkin sa hain..

जो मुझें चाहिए वो मुझें न दे सके
इससे मुझें कोई गम नहीं हैं,
जो उसे चाहिए वो मैं दु,
ये क्या कम हैं..
Jo mujhe chahiye wo mujhe na de sake,
Isse mujhe koi gam nahi hain,
Jo use chahiye woh main du,
Ye kya kam hain..

 

सारे जमाने में बट गया वक़्त उसका,
मेरे हिस्से में तो केवल उसके बहाने ही आए..
Saare jamane me bat gaya waqt uska,
Mere hisse me to keval uske bahane hi aaye..

अब थोड़ा भी फ़र्क़ नहीं पड़ता आपकी बेरुखी से,
अब तो दिल को आदत सी हो गई हैं,
खामोश रहने की..
Ab thoda bhi farq nahi padta,
Aapki berukhi se,
Ab to dil ko aadat si ho gayi hain,
Khamosh rehne ki..

आप साल बदलते जरूरी देखें हैं,
मैंने सालों भर लोगों को बदलते देखा हैं..
Aap saal badalte jarur dekhe hain,
Maine saalo bhar logo ko badalte dekha hain..

एक ही इंसान पर लूटा दे,
जो जिंदगी अपनी,
ऐसे लोग अब किताबों में ही मिला करते हैं..
Ek hi insaan par lutaa de,
Jo zindagi apni,
Aise log ab kitaabo mein hi mila karte hain..

यकींन मानो लाख कोशिश कर चुका हूँ मैं,
न ही धड़कने रुकती हैं और न तेरी यादें…
Yakeen mano lakh koshish kar chuka hoon main,
Na hi dhadakne rukti hain aur na teri yaadein..

 

Also, Check Sorry Shayari. & Sad Shayari.

 

 

Previous article
Next article
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments